STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 075 (Special binoculars)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

75. विशेष दूरबीन


क्या तुम जानते हो कि भविष्यवक्ता कौन होता है ?

साराह: “परमेश्वर उसे आपनी योजनायें बताता है |”

आस्मस: “वह भविष्यवाणी कर सकता है |”

यह भी कह सकते हैं कि भविष्यवक्ता वह व्यक्ति होता है जिसे परमेश्वर की ओर से विशेष दूरबीन मिली हुई होती है | ऐसी दूरबीन जिस के द्वारा वह भविष्य की वस्तुयें देख सकता है और ऐसी वस्तुयें भी देख सकता है जिसे कोई और नहीं देख सकता |

जकर्याह ने भी भविष्य की घटनायें देखीं और परमेश्वर ने उन्हें जो कुछ बताया उसे उन्हों ने लिखा: पवित्र शास्त्र का यह वचन पढ़ो :

लड़की: “ऐ यरूशलेम खुशी मना, तेरा राजा तेरे पास आ रहा है जो धार्मिक, विजेता, नम्र और गधे पर सवार हो कर आ रहा है |”

परमेश्वर ने जो भविष्य वाणी की वह सत्य रूप से वैसी ही हुई | जकर्याह ने जो पहले से देखा था, ५०० साल के बाद पूर्णत : हो गया |

यीशु यरूशलेम के मार्ग पर थे | आप एक छोटे से गाँव में आये और वहाँ से आप ने अपने दो चेलों को आगे भेजा |

यीशु: “अगले नगर में जाओ | वहाँ तुम एक गधा देखोगे | उस की रस्सी खोल कर उसे मेरे पास ले आओ |”

चेला: “क्या हम उसे वैसे ही ला सकते हैं ?”

यीशु: “यदि कोई तुम से पूछे कि तुम गधे को क्यों ले जा रहे हो तो तुम उसे कह देना कि प्रभु को उस की आव्यशकता है |”

चेला: “यदि आप कहते हैं तो हम वैसा ही करेंगे |” (पक्के मार्ग पर चलने की आवाज)

वे दो पुरुष उस गाँव में गये और जैसे यीशु ने कहा था वैसे ही पाया | उन्हों ने गधे को पाया और उस की रस्सी खोल दी |

गधे का मालिक: “अरे, तुम दोनों क्या कर रहे हो ? वह गधा मेरा है |”

चेला: “प्रभु को उस की आव्यशकता है और उसे लेने के लिये हमें भेजा है |”

गधे का मालिक: “तुम्हारा प्रभु ? तब तो ठीक है | सब कुछ ठीक है | उसे ले जाओ |”

(पक्के मार्ग पर चलने की आवाज)

चेले उस गधे को यीशु के पास ले आये, अपने कपड़े उस जानवर पर रखे और यीशु उस गधे पर सवार हो गये | दूसरे लोगों ने अपने कपड़े गालीचे के समान जमीन पर फैलाये और खजूर की टहनियाँ स्वागत के लिये हिलाते रहे | बहुत प्रसन्न हो कर उन्हों ने यीशु का स्वागत किया |

लोग: ”ऐ यरूशलेम, प्रसन्न हो?खुशी मना, तेरा राजा तेरे पास आ रहा है |”

लोग: “होसन्ना ! राजा का स्वागत हो जो परमेश्वर की ओर से आता है |”

लोग: “होसन्ना ! हमारी सहायता कीजिये ! आप हमारे राजा हैं |”

उन्हें ऐसे राजा की आव्यशकता थी जो उन्हें रोटी देता और उन्हें रोमियों के दमन से मुक्त करता | परन्तु यीशु इस के लिये नहीं आये थे |

निराश हो कर एक सप्ताह बाद वह चिल्लाये :

लोग: “हमें वह नहीं चाहिये | उसे ले जाओ | उसे क्रूस पर चढा दो |”

वह यह न जान सके कि यीशु उन्हें रोटी से कुछ अधिक ही देना चाहते थे | आप एक राजा समान उन के जीवन पर राज करना चाहते थे |

मुझे खुशी है कि आप हमारे जीवन के साथ भी ऐसा ही करना चाहते हैं |


लोग: वर्णनकर्ता, लड़की, लड़का, यीशु, चेले, गधे का मालिक, लोग

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:12 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)