STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 102 (All is revealed 2)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

102. खुले में रखा है २


यह परमेश्वर का आश्चर्यकर्म था जो वह बालक अब तक जीवित था | फ़िरौन ने आदेश दिया था कि ईस्राएली छोटे लड़कों को नील नदी में फ़ेंक दिया जाये | परन्तु जब उस की बेटी ने, जो राजकुमारी थी, एक बालक को टोकरी में रखा हुआ नील नदी में पाया तब उसे उस बालक के लिये
दुख : हुआ | राजकुमारी ने उस बालक को उस की माँ को दिया ताकि वह कुछ सालों तक उस की देख भाल करे |

मूसा (बालक की अवस्था में): “माँ, मैं और अधिक समय तक तुम्हारे पास क्यों नहीं रह सकता ? क्या तुम मेरे साथ आ रही हो ?”

माँ: “मेरे प्रिय, मैं नहीं आ सकती | परन्तु मैं हर समय तुम्हारे विषय में सोचती रहूंगी |”

मूसा (बालक की अवस्था में): “मैं तो तुम्हारे ही साथ रहुंगा |”

परन्तु उन्हें एक दूसरे को अलविदा कहना पड़ा |

राजकुमारी ने उस नवजवान लड़के को गोद लिया और उस का नाम मूसा रखा |

मूसा सब से अच्छे स्कूलों में गया और मेहनत करके अभ्यास करता रहा | उसे विशेष अधिकार प्राप्त थे | मूसा, धनी मनुष्य बन गया |

परन्तु अपने दिल में वह कभी न भूला कि वह परमेश्वर के लोगों में से है | उन लोगों में से जो ३०० साल से अधिक समय से मिस्र देश में दासता में थे |

मूसा: “मैं राजा का पुत्र हूँ | मेरे पास सब कुछ है जिस की मुझे आव्यशकता है | मैं बहुत धनी हूँ | परन्तु यह सब मेरे लिये किस लाभ का है ? मुझे अपने दिल मे यह महसूस होता है कि मैं अपने लोगों की सहायता करूं |”

मूसा ने स्वेच्छा से सब कुछ परमेश्वर के लिये छोड़ दिया | वह आदर के बदले घ्रणा और राजकुमार होने के बदले दासता पसंद करता था |

इसी कारण उस ने राज महल छोड़ दिया | कुछ समय के बाद उस ने एक ईस्राएली को देखा जिसे एक मिस्री व्यक्ति मार रहा था | मूसा ने चारों ओर देखा और जब उसे कोई नजर न आया जो उसे देख रहा हो तब उस ने उस मिस्री व्यक्ति को मार डाला | और उस के शव को रेगिस्तान की रेत में गाड़ दिया | परमेश्वर मूसा को अपने लोगों को दासता से मुक्त करने के लिये इस्तेमाल करना चाहता था परन्तु इस तरह से नहीं |

लोगों को इस घटना का पता चला और फ़िरौन को भी पता चला इस लिये वह मूसा को मार डालना चाहता था | इस कारण मूसा परदेश भाग गया | क्या अब बहुत देर हो चुकी थी ? क्या परमेश्वर मूसा के जैसे एक हत्यारे को इस्तेमाल कर सकता था ?

(भेड़ों के मिमियाने की आवाज) चालीस साल के लम्बे समय तक मूसा किसी और व्यक्ति की भेड़ें चराता रहा | जब वह भेड़ों को घास के खेतों तक हांकता हुआ ले जाता था तब उस के पास सोचने के लिये बहुत समय हुआ करता था |

न उस ने परमेश्वर को भुलाया और न परमेश्वर ने ही उसे भुलाया |

अचानक मूसा स्थिर अवस्था में खड़ा हो गया |

मूसा: “यह असंभव है | केवल असंभव ! जलती हुई झाड़ी, जिस में आग लगी है परन्तु आश्चर्य की बात है - क्योंकी वह झाड़ी भस्म नहीं हो रही
थी |”

जलती हुई झाड़ी का रहस्य अगले ड्रामे में बताया जायेगा |


लोग: वर्णनकर्ता, मूसा (बालक के रूप में), माँ, मूसा

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 31, 2018, at 08:31 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)