STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 128 (Thirst no more)

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

128. अब और प्यास नहीं है


नगर के बहुत से लोग नियमित रूप से उस के साथ किसी प्रकार का व्यवहार नहीं रखते थे |

सामरी स्त्री: “वे अपनी उंगली मेरी ओर उठाते हैं | मानो उन के जीवन में सब कुछ ठीक है | मैं आशा करती हूँ कि जब मैं कूएँ पर पानी लेने जाऊं तब वहाँ किसी से न मिलूँ |” (पत्थर के मार्ग पर चलने की आवाज)

दोपहर के १२ बजे उस स्त्री ने अपना पानी का घडा लिया और नगर से चली गई | दिन के इस समय जब धूप बहुत तेज होती है, उसे मार्ग पर शायद ही कोई मिला हो | सूखार नगर के लोग सामान्यता या तो सवेरे या शाम को कुएँ पर जाते थे |

सामरी स्त्री: “ओह प्रिय, कूएँ पर न जाने कौन बैठा हुआ है ?”

यीशु: “मुझे पीने को कुछ दो |”

सामरी स्त्री: “आप मुझ से बात क्यों कर रहे हो ? आप यहूदी हैं और मैं एक सामरी स्त्री हूँ |”

क्या अपरिचित लोग नहीं जानते कि यहूदी, सामरियों से किसी प्रकार का व्यवहार नहीं रखते कयोंकि उन्हों ने परदेसियों से विवाह किया और मूर्तियों को पूजा ? यधपि आप यह जानते थे | परन्तु आप उन लोगों से दूर न रहते थे जिन्हें समाज ने त्याग दिया था | आप ऐसा नहीं करते | यीशु दूसरों से अलग व्यक्ति हैं |

यीशु: “यदि तू जानती कि मैं कौन हूँ तो तू मुझ से मॉंगती और मैं तुझे जीवन का पानी देता |”

सामरी स्त्री: “आप पानी कैसे निकाल सकोगे ? कुआँ गहरा है |”

यीशु: “जो कोई यह पानी पियेगा वह फिर प्यासा होगा | परन्तु जो पानी मैं दूँगा वह अनन्त काल तक तुम्हारी प्यास मिटायेगा |”

हमारे दिल की इच्छायें प्यासा होने के समान होती हैं | एक बार वह पूरी हो गईं कि नई इच्छायें प्रगट हो जाती हैं और यह सिलसिला जारी रहता
है | दिल कभी सन्तुष्ट नहीं होता | यह प्यास कभी नहीं बुझती | न ही महान अनुभव, और न कोई खेल का पुरस्कार, न कोई अच्छा मित्र या कोई और वस्तु इस प्यास को बुझा सकती है | जीवन की इस प्यास को वही बुझा सकता है जो कुएँ पर बैठा हुआ था | उस स्त्री को इस का एहसास हुआ था |

सामरी स्त्री: “मुझे यह पानी दीजिये, ताकि मुझे फिर कभी कुएँ पर न आना पड़े |”

यीशु: “जा, अपने पती को ले कर आ |”

सामरी स्त्री: “मेरा विवाह नहीं हुआ है |”

यीशु: “मैं जानता हूँ | तेरे पाँच पती हो चुके हैं और जिस पुरुष के साथ तू अब रहती है वह पुरुष भी तेरा पती नहीं है |”

यीशु इस स्त्री के विषय में सब कुछ जानते थे | और फिर भी आप ने उस से मुँह न मोड़ा |

सामरी स्त्री: “परमेश्वर ने आप को भेजा | मैं जानती हूँ कि उद्धार कर्ता आने वाला है |”

यीशु: “मैं वही हूँ |”

यीशु ने उस के पाप क्षमा किये और उसे नया संतुष्ट जीवन दिया | बहुत ही प्रसन्न हो कर वह स्त्री अपना पानी का घड़ा छोड कर दौड़ती हुई नगर को वापस लौटी |

उस ने सब लोगों को यीशु के पास आने का नेवता दिया |

और मैं तुम को नेवता देता हूँ कि यीशु के पास आओ | तब तुम भी वही कहोगे जो सूखार नगर के लोगों ने कहा था :

बालक: “अब मैं यीशु पर विश्वास करता हूँ | परन्तु इस लिये नहीं कि तुम ने कहा, बल्कि इस लिये कि मैं स्वयं : आप को जान गया हूँ | आप सच में दुनिया के उद्धार कर्ता हैं |”


लोग: वर्णनकर्ता, सामरी स्त्री, यीशु, बालक

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 31, 2018, at 08:53 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)