STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 072 (A sensation on the water)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

72. समुद्र पर सनसनी


गलील की झील पर सनसनीखेज कार्य !

पतरस: “मैं यीशु के कारण उत्तेज़ित हूँ | मैं विश्वास नहीं कर सकता : आप ने पाँच रोटीयों और दो मछलियों से ५००० लोगों को पेट भर के भोजन खिलाया इस के अतिरिक्त उन के साथ स्त्रियां और बच्चे भी थे - और हर एक ने सन्तुष्ट हो कर खाया |”

चेला: “क्या तुम ने देखा था कि कितना खाना बचा था ? जितनी मात्रा से आप ने शुरू किया था उस से कई गुना अधिक भोजन बचा था |”

पतरस: “कितनी बड़ी बात है, छोटी मात्रा से आप अधिक बना सकते हैं |”

परमेश्वर के पुत्र, यीशु, अनोखे व्यक्ति हैं | आप छोटी मात्रा से अधिक वस्तु बना सकते हैं |

इस आश्चर्यकर्म से लोग प्रभावित हुए और शाम को अपने घर लौट गये | उस के बाद यीशु अपने चेलों की वार्तालाप में शामिल हुये |

यीशु: “नाव में सवार हो जाओ और दूसरे किनारे पर चले जाओ |”

आप स्वय : नाव में सवार नहीं हुये परन्तु प्रार्थना करने के लिये पहाड़ पर चढ़ गये |

चेले, रात के समय, यीशु के बिना नाव खेते हुए झील के उस पार जा रहे थे | अचानक आँधी आई | मछेरों ने पाल नीचे उतार लिये | पहली लहर नाव से टकरा गई | यदि ऐसी डर की स्थिति में यीशु उन के साथ होते ! वे डर गये और चिल्लाये | परन्तु स्थिति और भी गंभीर हो गई |

पतरस: “उधर देखो, क्या तुम उसे देख रहे हो ? वह भूत है !”

चेला: “मैं इसे और सहन नहीं कर सकता |”

पानी के ऊपर एक सफ़ेद रूप चल रहा था जो सीधा उन की नाव की ओर चला आया | चेले चिल्लाये | परन्तु वह भूत नहीं था |”

यीशु: “हिम्मत से काम लो, मैं हूँ ! डरो नहीं !”

चेलों ने यह आवाज पहचानी | आप यीशु थे | पतरस पहले व्यक्ति थे जिन्हों ने बोलने की हिम्मत की |

पतरस: “प्रभु यीशु, यदि वास्तव में आप हैं तो आज्ञा दीजिये कि मैं पानी पर चल कर आप के पास आऊँ |”

यीशु: “आ जाओ !”

आश्चर्य की बात है ! पतरस नाव में से बाहर आये और पानी पर चलते हुये यीशु की ओर बढ़े | जब तक वे यीशु की ओर देख रहे थे, तब तक सब कुछ ठीक था | परन्तु जब उन्हों ने लहरों की ओर देखा, वे डूबने लगे |

पतरस: “प्रभु, मुझे बचाईये ! मेरी सहायता कीजिये !”

यीशु ने अपना हाथ बढ़ा कर पतरस को पकड़ा और उन्हें बचा लिया |

परमेश्वर के पुत्र, यीशु, अनोखे व्यक्ति हैं - आप बचाते हैं !

यीशु: “मुझ पर विश्वास करो | अपना पूरा दिल मुझे दे दो |”

पतरस यीशु के साथ वापस नाव में आये | आँधी रुक गई और हवा भी रुक गई | हर एक ने यीशु के सामने घुटने टेक कर इस आश्चर्यजनक प्रभु के आगे अपना सर झुकाया |

पतरस: “आप परमेश्वर के पुत्र हैं |”

परमेश्वर के पुत्र, यीशु, अनोखे व्यक्ति हैं | आप के लिये कोई काम असंभव नहीं है |

आप यह आग्रह नहीं करते कि तुम पानी पर चलो | परन्तु तुम जहाँ भी हो, यीशु के साथ साथ चलो | हर प्रस्तिथि में आप तुम्हारा मार्गदर्शन और सहायता करेंगे |


लोग: वर्णनकर्ता, पतरस, चेला, यीशु

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:52 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)