STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 071 (The throw-away-your-cares advice )

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

71. अपनी चिन्ता उस पर डाल दो का इशारा


क्या यह अच्छा न होगा यदि हमें कोई चिंता या समस्यायें होतीं ?

लड़की: “क्या ही अच्छा होता जो इस के बाद कोई युद्ध न होता |”

लड़का: “और न कोई अपघात या कैन्सर का रोग भी होता |”

लड़की: “और यह कि माता पिता तलाक न देते |”

लड़का: “मैं चाहता हूँ कि इस के बाद कोई बच्चा भूखा भी न रहे |”

अगर यह सच मुच हो जाता तो कितना आश्चर्यजनक होता !

कभी कभी मैं भी ऐसे ही चाहता हूँ | क्या तुम भी ऐसा ही चाहते हो ? परन्तु जब तक हम इस धर्ती पर रहेंगे, इस प्रकार की मनोकामनायें पूरी न होंगी |

परन्तु मेरे पास तुम्हारे लिये अच्छा समाचार है : एक व्यक्ति है जो तुम्हें तुम्हारी चिताओं के साथ अकेला न छोड़ेगा | यीशु ! यह मैं कैसे जानता
हूँ ? पतरस के द्वारा |

पवित्र शास्त्र में उन के लिखे हुए पत्र पाये जाते हैं और उन में से एक पत्र में वह कहते हैं : अपनी सारी समस्यायें और सारी चिंतायें यीशु पर डाल दो, क्योंकि उसे तुम्हारी चिन्ता है |

पतरस अपने अनुभव के अनुसार बोलते हैं | एक समय, उन की सास बहुत बीमार थी | वह खाट पर पड़ी थी और उसे ज्वर चढ़ा हुआ था | किसी इलाज से लाभ न हुआ | पतरस और उस की पत्नी ने हार मान ली थी |

परन्तु जब यीशु उन से मिलने आये, तब उन्हों ने अपनी सारी समस्यायें आप को बता दीं |

पतरस: “यीशु, कृपया हमारी सहायता कीजिये | मेरी सास बहुत बीमार है | हमें उस की बहुत चिन्ता हो रही है |”

यीशु हमारी छोटी और बड़ी चिंतायें समझते हैं और खुशी से हमारी सहायता करते हैं |

पवित्र शास्त्र में लिखा है : “यीशु बीमार स्त्री की खाट के पास गये और उस का हाथ पकड़ कर उसे खड़ा होने में सहायता की | उस का ज्वर तुरन्त उतर गया | केवल एक सेकंड में वह चंगी हो गई | वह फिर स्वस्थ हो गई और उस ने सब लोगों के लिये स्वादिष्ट भोजन पकाया जो वहाँ हाज़िर
थे |

क्या तुम्हें चिंतायें हैं ? यीशु से उन के विषय में बात करो | आप तुम्हारी प्रार्थना सुनते हैं | हो सकता है कि आप तुम्हारी उतनी जल्दी सहायता न करें जैसी पतरस की, की थी | परन्तु तुम निश्चित रह सकते हो क्योंकि यीशु कभी बहुत देर नहीं लगाते, यदि कभी कभी हमें आप के उत्तर की प्रतिक्षा करनी पड़े |

और पतरस का अच्छा परामर्श हमेशा याद रखिये |

पतरस: “अपनी सारी चिंतायें यीशु पर डाल दो क्योंकि उसे तुम्हारी चिन्ता है |”


लोग: वर्णनकर्ता, लड़की, लड़का, पतरस

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:14 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)