STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 007 (On the strongest one’s side)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

7. विजेता के पक्ष में


पलिश्ती फिर एक बार इस्राएल के विरुद्ध युद्ध के लिये गये | दाऊद के बडे भाई सेना की अगली पाँतियों में थे | उसे उनके लिये भोजन लाना था और यह जानना था कि वे किस प्रस्थिति में हैं | जब वह युद्ध के क्षेत्र में आया तो उस ने दूसरी ओर एक खरा महाकाय व्यक्ति देखा - जो लगभग दस फुट ऊँचा था ! उस का नाम गोलियत था | उस ने इस्राएलित्यों को डाँटा और उन्हें शाप दिया | सभी सैनिक उस से डरते थे, यहाँ तक कि शाऊल
भी |

क्या वह भूल गये कि परमेश्वर सब से अधिक शक्तिशाली है ?

गोलियत: “ऐ गूँगे इस्राएलियो ! हा, तुम डर गये हो ! हा हा हा ! मैं तुम्हें पक्षियों का स्वादिष्ट भोजन बना दुँगा | तुम्हारा परमेश्वर तुम्हारी सहायता न कर सकेगा | मैं उस से अधिक शक्तिशाली हूँ |”

दाऊद: “क्या तुम सब ने यह सुना ? वह परमेश्वर की हँसी उडाता है ! क्या तुम उसे ऐसा करने दोगे ?”

दाऊद इस अपमानजनक पलिश्ती से निराश हो गया था | इस्राएलियों की हँसी उडाना और बात थी, परन्तु परमेश्वर की थट्टा करना और बात है | वह बहुत आगे बढ़ गया था !

दाऊद तुरन्त शाऊल राजा के पास गया और उस से कहा कि वह इस महाकाय गोलियत से युद्ध करेगा |

दाऊद ने गंभीरता से निर्णय लिया था | वह केवल अपनी चरवाहे की लाठी और गोफन ले कर गोलियत की ओर चल पडा |

परमेश्वर शक्तिशाली है - इस से उसे साहस मिला |

कई सैनिकों ने जैसे ही चरवाहे लड़के को देखा तो अपनी आँखों पर विश्वास न किया; उन्हों ने प्रत्याशा में अपना दम रोक लिया |

गोलियत और भी निकट आता गया |

गोलियत: “क्या मैं कुत्ता हूँ, कि तू लाठी ले कर मेरे पास आता है ? क्या तू सोचता है कि तेरा परमेश्वर तुझे बचायेगा ? हा हा हा, मैं उस से अधिक शक्तिशाली हूँ | मैं तुझे मार डालुँगा |”

दाऊद: “तू तो तलवार और भाला लिये हुए मेरे पास आता है, परन्तु मैं तेरे पास सर्वशक्तिमान परमेश्वर का नाम ले कर आता हूँ जिसे तूने शाप दिया है | वह तुझ से अधिक शक्तिशाली है ! मैं तुझे हराऊंगा और सारी दुनिया देख लेगी कि इस्राएल जीवित परमेश्वर की सेवा करता है |”

दाऊद ने अपनी गोफन ली और उसे घुमाया ---- (गोफन के निशाने पर लगने की आवाज) |

गोलियत: “ऊ ऊ ऊ ऊच !” (गिरने की आवाज)

दाऊद की गोफन में का पत्थर सीधे उस महाकाय व्यक्ति के माथे पर लगा | वह जमीन पर गिरा और मर गया |

परमेश्वर को शाप दे कर गोलियत का क्या भला हुआ ? अंत में शक्तिशाली कौन ठहरा ?

परमेश्वर शक्तिशाली है !


लोग: वर्णन कर्ता, गोलियत, दाऊद

© कॉपीराईट सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:50 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)