STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 168 (All is well with Terry 6)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish-AM -- Spanish-ES -- Tamil -- Turkish -- Urdu -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

168. टेर्री बिल्कुल ठीक है ६


फ़िलिप और रूथ अच्छे से सो गये | उन्हों ने घर में पदचाप की बहुत आवाज नहीं सुनी | वह नहीं जानते थे कि डॉक्टर लग भाग सारी रात टेर्री की खाट के पास बैठा था |

अच्छे चरवाहे, यीशु, चुपके से और न दिखाई देते हुए टेर्री को अपनी बाहों में उठा कर स्वर्ग में अपने घर ले आये |

दूसरे दिन सवेरे जब रुथ ने सुना कि टेर्री मर गया है तब वह बहुत रोई | उस ने और फ़िलिप ने अभी अभी अपना सब से अच्छा मित्र खो दिया था |

उस की कब्र पर रोबिंगर पादरी ने अच्छे चरवाहे की कहानी ऊँची आवाज में पढ़ी |

मृतक संस्कार के बाद, रुथ दु:खी हो कर जंगल में से चलती हुई गई | यह सोचना कि टेर्री अभी जीवित नहीं है, बहुत भयानक विचार था | वह मेवे के पेड़ के नीचे खुल कर रोई |

श्री टानर: “रुथ, तुम रो क्यों रही हो ?”

श्री टानर अचानक उस के पास खड़ा हो गया | चरागाह में की सब भेड़ें उस की अपनी थीं | रुथ ने उसे वह सब बताया जो हुआ था |

रुथ: “मैं हमेशा प्रार्थना करती थी | परन्तु उस से सहायता नहीं मिली | टेर्री किसी न किसी तरह से मर ही गया |”

श्री टानर: “क्या तुम सोचती हो कि यीशु ने गल्ती की ? यदि मेरी कोई भेड़ बहुत बीमार हो और मैं उसे उठा कर अपनी सब से अच्छी चरागाह में ले जाऊं जहाँ वह पहले से अच्छी स्थिति में होगी, तो तुम क्या कहोगी ?”

अब रुथ समझने लगी थी |

श्री टानर: “यीशु ने टेर्री को ऐसी जगह लाया जहाँ वह आश्चर्यजनक रूप से प्रगति के मार्ग पर है | इस लिये तुम्हें दु:खी नहीं होना चाहिये |”

रुथ: “परन्तु उन्हों ने उसे जमीन में गाड़ दिया | तब वह अच्छे चरवाहे के पास कैसे हो सकता है ?”

श्री टानर ने एक मेवा उठाया |

श्री टानर: “रुथ, देखो ! मेवे के ऊपर के कँटीले भूसे का कोई महत्व नहीं होता | परन्तु जीवन गूदे में होता है | उस में से नया पेड़ उगता है | तुम टेर्री के शरीर की भूसे से तुलना कर सकती हो | वह जमीन में रहता है और टेर्री को अब उस की आव्यशकता नहीं रही | परन्तु उस का अन्दर का गूदा, जो उस का असली जीवन है, यीशु के पास है | वहाँ उस का नया शरीर है जिस में पीड़ा नहीं होती | रुथ इन बातों पर विचार करो |”

घर में फ़िलिप ने देखा कि रुथ अब दु:खी नहीं थी |

फ़िलिप: “रुथ, मुझे अच्छे चरवाहे के बारे में जानकारी देने के लिये धन्यवाद जिस के कारण मैं आप को जान सका | टेर्री अब आप के पास है | और हम भी किसी दिन आप के पास जायेंगे |”

रुथ: “और कल मैं स्कूल में बच्चों को अच्छे चरवाहे के विषय में बताऊँगी ताकि वे भी आप को जानें |”

तुम अच्छे चरवाहे, यीशु के बारे में किसे बताओगे ?


लोग: वर्णनकर्ता, श्री टानर, रुथ, फ़िलिप,

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 10, 2018, at 03:02 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)