STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 151 (Donkey heads are expensive 1)

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

151. गधे के सर महंगे होते हैं १


क्या तुम सामरिया नगर की कल्पना कर सकते हो जो एक पहाड़ पर बसा हुआ नगर है और अच्छी तरह से सुरक्षित भी है ? जब ईस्राएल का विभाजन हुआ तब यह नगर उत्तरी राज्य की राजधानी था |

और इस विशेष नगर पर शत्रु ने घेराबंदी की |

सीरिया के लोग उसे जीतना चाहते थे परन्तु उन्हों ने उसे हथियारों से जीतना नहीं चाह | उन्हों ने उस की घेराबंदी की | नगर के चारों ओर उन्हों ने अपने तम्बू गाढ़ दिये और नगर के फाटकों पर दृष्टि रखी | तब से नगर वासी केवल बुरा समाचार ही सुनते रहे | धान्य की मात्र बहुत कम थी | हर वस्तु बिक चुकी थी ! हर गदहे और खराब सामान के मूल्य १६० डॉलर थे | भूके बच्चे रोते थे और सड़कों पर खाना ढूंडते थे |

देश अपने अन्तिम चरनों में था और राजा की परस्थिति भी वैसी ही थी | वह एलीशा को दोशी ठहरा कर परमेश्वर के इस संदेशवाहक की हत्या करना चाहता था | एक अधिकारी उस के साथ था | एलीशा ने उन्हें आते हुए देखा |

एलीशा: “राजा, परमेश्वर की सुनो ! उस ने वचन दिया है कि कल खाने के लिये भोजन होगा और वह भी सस्ता !”

उस अधिकारी ने अपमानजनक उत्तर दिया |

अधिकारी: “यह असंभव है ! क्या तू सोचता है कि परमेश्वर आस्मान में खिडकी खोलेगा और नीचे हमारे लिये भोजन भेज देगा ?”

एलीशा: “तुम देखोगे कि ऐसा ही होगा परन्तु दंड के तौर पर तुम्हें उस में से कुछ भी खाने को नहीं मिलेगा |”

यह परमेश्वर की ओर से अच्छा समाचार था परन्तु किसी ने उस पर विश्वास नहीं किया |

आव्यशकता अत्यधिक थी | परन्तु वह उन चार लोगों के लिये बहुत बड़ी अधिक थी जो नगर के फाटक के बाहर बैठे हुए थे | वह फटे हुए कपड़े पहने हुए थे, भूक के मारे और कुष्ट से पीड़ित थे | इस भयानक चमड़ी की बीमारी ने उन्हें नगर से बाहर निकाल दिया था |

क्या नगर बहुत जल्दी उन के मरने का समाचार सुनेगा ?

निराश हो कर वह दूर तक देखते रहे | अचानक उन में से एक ने मौन तोडा |

कुष्ट रोगी: “मृत्यु हर तरफ मंडरा रही है | यदि हम यहाँ रहे तो मर जायेंगे ! यदि हम नगर में जायें तो भी मर जायेंगे | यदि हम शत्रु के पास जायें, संभव है ... शायद वे हमें जीने देंगे और यदि वह हमें मार डालते हैं, तब हम यहाँ कि बजाय वहाँ मर जायेंगे |

आशा की एक किरण उन के दिल में प्रवेश कर गई |

जब सूरज डूब गया, तब उन्हों ने शत्रु की छावनी में झांक कर देखा |

वहाँ बहुत ही तनाव था !

वह पहले तम्बू तक पहुँच गये |

सावधानी से ! ख़ामोश रहो !

फिर क्या हुआ वह मैं अगले ड्रामे में बताऊंगा |


लोग: वर्णनकर्ता, एलीशा, कुष्ट रोगी, अधिकारी

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 31, 2018, at 09:25 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)