STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 068 (The showdown 1)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

68. बल का प्रयोग १


दो एस्किमो मोटे कपड़े पहन कर बर्फ गाडी पर बैठे हैं | चाबुक घुमाया गया और कुत्ते बर्फ की जमी हुई चटान से टकरा गये | अचानक कोल्ली को कुछ सुनाई देता है |

कुप्पा जादूगर ने भी वह आवाज सुनी : एक हलकी सी झंकार बर्फ में से गुजर जाती है |

सीटी बजी और दौड़ते हुए कुत्ते रुक गये | एस्किमो ने आपनी पशुलोम की टोपियां उतार लीं | इस में संदेह नहीं - बर्फ गा रहा है | वह भयभीत हुए | क्योंकि जब बर्फ गाने लगता है तो इस का अर्थ यह होता है कि उस के नीचे के पानी की लहरें आ जायेंगी - जोरदार लहरें जो अचानक बहुत शक्ती के साथ आती हैं और बर्फ की मोटी से मोटी चट्टान में दरार पड़ जाती है |

(चाबुक के मारने की आवाज)

कोल्ली: “चलो अच्छे कुत्तों ! जल्दी से किनारे पर पहुँचो | शक्तिशाली लहरें आ रही है | हम मरने वाले हैं |”

कुप्पा: “कोल्ली, क्या तुम वहाँ वह बर्फ गाडी देख रहे हो ?”

कोल्ली: “क्या वे पागल हो गये हैं ? वे लहरों की ओर अपनी बर्फ गाडी को ले जा रहे हैं |”

कुप्पा: “हमें उन्हें सुचना देनी चाहिये |”

परन्तु जब दोनों बर्फ गाडियां एक दूसरे के निकट आ गईं और कुप्पा ने एस्किमो के गाँव के मिशनरियों को दूसरी बर्फ गाडी में देखा तो उस ने उन्हें सचेत नहीं किया | वह उन से और उन के यीशु से घ्रणा करता है, जिस के विषय में वे हमेशा बोलते रहते हैं |

कुप्पा और कोल्ली नायन के सुरक्षित किनारे पर पहुँच गये |

कुप्पा: “यह सब ठीक रहा |”

कोल्ली: “और वे दूसरे लोग ?”

कुप्पा: “उन्हें केवल मर जाना चाहिये | अब उन का यीशु हमें बता सके गा कि वह शक्तिशाली लहरों से अधिक शक्तिशाली है | हा, हा |”

इन दो पुरुषों ने इग्लू (बर्फ का बना हुआ घर) बनाया | उस के बाद कुप्पा एक छोटी सी दुकान में सील की अच्छी पशुलोम ले कर चला गया | क्या वह गोरी महीला, उस मिशनरी की पत्नी यहाँ है ?”

कुप्पा: “मैं यह पशुलोम उस बन्दुक के बदले में जो वहाँ है, बेचना चाहता हूँ |”

स्त्री: “मैं नहीं जानती कि हमें और पशुलोम की आव्यशकता है या नहीं | क्या तुम थोड़ी देर मेरे पती के लौटने तक रुक सकते हो ?”

कुप्पा: “वह वापस नहीं आयेंगे |”

स्त्री: “इस से तुम्हारा क्या मतलब है ?”

कुप्पा: “अत्यन्त शक्तिशाली लहरें आ रही हैं |”

स्त्री: “शक्तिशाली लहरें ???”

भयभीत होकर, वह स्त्री उस की ओर घूरने लगी | जादूगर ने खिडकी खोली और उन दोनों ने उस आवाज को सुना - बर्फ गा रहा था |

स्त्री: “कुप्पा, तुम ने उन्हें सचेत क्यों नहीं किया ?”

कुप्पा: “मैं क्यों करता ? यदि उस के यीशु उस की सहायता कर सकते हैं तो आप करेंगे |”

वह स्त्री पागल सी हो गई | तब उस ने पवित्र शास्त्र का वह वचन देखा जो दीवार पर लटक रहा था :

यीशु ने कहा : स्वर्ग और जमीन पर सारा अधिकार मुझे दिया गया है |

स्त्री: “यीशु यह कर सकते हैं ! आप ने ऐसे समय पर कभी हार नहीं मानी है |”

कुप्पा: “मुठभेड़ जारी है | यदि शक्तिशाली लहरों के बावजूद वे वापस लौटे तो मैं भी यीशु पर विश्वास करूँगा |”

स्त्री: “कुप्पा, वे लौट आयेंगे | मैं जानती हूँ |”

उस की निश्चितत:ने जादूगर को अनिश्चित बना दिया | यह मुठभेड़ कौन जीतेगा ? कुप्पा या यीशु ? तुम इस का उत्तर अगले ड्रामे में पाओगे |


लोग: वर्णनकर्ता, कुप्पा, कोल्ली, स्त्री

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:16 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)