STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 043 (Good news 2)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

43. सुसमाचार २


बाजार तक चलने ने थका दिया | तारा और उस की माँ ने शकरकंद से भरी हुई टोकरियाँ अपने सर पर उठाई थीं | उन को आशा थी कि उन्हें बहुत पैसे मिलेंगे और तब गौतम की पत्नी आपनी बेटी के लिये नया पोशाक खरीदेगी | उस के पास जो एक मात्र ड्रेस था वह पुराना हो गया था और उस में छेद पड़ गये थे | तारा के माता पिता गरीब थे | उस के पिता दुष्ट आत्माओं को सब से उत्तम बलि चढाते थे परन्तु इस के बदले में उन्हें अपने दिल में कभी शांति न मिली | अचानक तारा के मन में मरियम का विचार आया | उस की सहेली अब कोई तावीज़ अपने पास नहीं रखती थी क्योंकि अब वह मसीही बन गई थी |

अंत में वे बाजार तक पहुँच गये | वहाँ बहुत कुछ हो रहा था |

विक्रेता: “ताज़ी सब्जियां ! सब से अच्छी फल्लियाँ !”

विक्रेता: “नई फसल में से आई हैं |”

विक्रेता: “सस्ती – यहाँ सब कुछ सस्ता है |”

गौतम की पत्नी ने आपनी टोकरी एक आदमी के सामने रख दी | उस ने उस की फसल की अच्छी तरह से छान बीन की |

विक्रेता: “मैं ने यही सोचा था, इस में कीड़े हैं ! शकरकंद में कीड़े हैं !”

निराश हो कर और अपने पास केवल थोड़े पैसे होने के कारण श्रीमती गौतम ने अपना सामान ख़रीदा | परन्तु तारा को एक आश्चर्यकर्म का अनुभव हुआ ! एक मैत्रीपूर्ण आदमी ने उस की टोकरी में के सभी शकरकंद खरीद लिये | उसे यह जानकारी न थी कि उस की सहेली इसी आदमी के द्वारा मसीही बनी | जो पैसे उसे मिले, उस से तारा ने अपने लिये एक सुन्दर पोशाक ख़रीदा |

बाद में वह फिर से विजय को मिली |

तारा: “देखो, उस आदमी ने मेरे शकरकंद ख़रीदे | उस के हाथ में किस प्रकार की पुस्तक है ?”

तारा और उस की माँ खामोश खड़े होकर उस आदमी को जो लोगों से कुछ कह रहा था, सुन रही थीं |

विजय: “मेरे पास तुम्हारे लिये अच्छा समाचार है | परमेश्वर तुम से प्रेम करता है और तुम्हारे दिल को शांति देना चाहता है ताकि तुम्हें कभी भयभीत होना न पड़े |”

श्रीमती गौतम: “तारा, मैं विश्वास करती हूँ कि वह सच बोलता है |”

जादूगर गौतम ने जब सुना कि उस की पत्नी ने विजय की बातें सुनी तो वह क्रोध से चींखा |

गौतम: “विजय ने तुम्हें उत्तेजित किया है | उस पर विश्वास न करो | आत्मायें हम पर पलट कर आयेंगी |”

श्रीमती गौतम: “गौतम, मेरे दिल में शांति आई है | विजय का परमेश्वर, दुष्ट आत्माओं से अधिक शक्तिशाली है |”

उसी समय गौतम ने तारा का नया पोशाक लिया और उसे चिन्दियों की गुडिया बना दिया और उस में बहुत सी सुइयां घुसा दीं |

गौतम: “यह विजय है | उसे मरना होगा | यह सुइयां ऐसा करेंगी |”

तारा को दु:ख हुआ | उस के पिता ने इस से पहले कभी ऐसा न किया था |

शक्तिशाली कौन है ? जादूगर का शाप या यीशु ?

यह जानने के लिये अगला ड्रामा सुनिए |


लोग: वर्णन कर्ता, श्रीमती गौतम, तारा, विक्रेता, विजय, गौतम

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 09, 2018, at 02:26 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)