STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 041 (The Chief and Jesus)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

41. मुखिया और यीशु


अपने हाथ में गंडासा लिये मिशनरी जंगल के मार्ग से धूप में निकल पड़ा | आस्मान में सूरज तप रहा था | कैसे तो भी वह भारत के एक गाँव में पहुँचा | वहाँ के मुखिया ने उस का हार्दिक स्वागत किया |

अब तक कोई गोरा आदमी इस कबीले के पास यीशु के विषय में जानकारी देने के लिये नहीं आया था | ढोल की आवाज़ ने सब भारतियों को इकट्ठा किया | मिशनरी ने अनंदित हो कर शुरुआत की |

मिशनरी: “परमेश्वर ने मुझे तुम्हारे पास भेजा है ताकि तुम जान सको कि स्वर्ग में कैसे जा सकोगे |”

मुखिया यह समाचार सुन कर प्रसन्न हुआ | वह खड़ा हुआ और कुछ लेने गया |

मुखिया: “मुखिया आपनी कुल्हाड़ी परमेश्वर को भेंट देता है |”

तब वह और बातें सुनने लगा |

मिशनरी: “परमेश्वर तुम से प्रेम करता है और चाहता है कि तुम उस के पास आओ | परन्तु परमेश्वर पवित्र है और तुम्हारे पाप उस के पास जाने के मार्ग में रूकावट डालते हैं | पापी स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते |”

यह सुन कर भारती निराश हो गये, क्योंकि वह सच बोल रहा था | उन्हों ने चोरी की थी, झूट बोला था और हत्या की थी और इस के लिये वह लज्जित थे |

मिशनरी: “निराश न हो | परमेश्वर तुम से प्रेम करता है | वह तुम्हारे पाप क्षमा करना चाहता है |”

यह सुन कर प्रसन्न होते हुए, मुखिया खड़ा हो गया, और जा कर एक सुन्दर रंगीन गलीचा ले कर आया |

मुखिया: “यह सुन कर मुखिया प्रसन्न हुआ कि परमेश्वर उस से प्रेम करता है, इस लिये वह परमेश्वर को यह गालीचा उपहार के तौर पर पेश करता है |”

मिशनरी: “परमेश्वर ने स्वय : अपने पुत्र को दुनिया में भेजा ताकि वह सब लोगों के पापों की कीमत चुका सके |”

परमेश्वर ने इतना सब किया है ! मुखिया फिर से गया ताकि वह एक बहुमूल्य वस्तु लाये जो उस के पास थी |

मुखिया: “मुखिया अपना घोडा परमेश्वर को देता है | अब मेरे पास परमेश्वर को देने के लिये और कुछ नहीं है |”

क्या सच मुच, और कुछ भी नहीं है ? उस मिशनरी ने फिर कहा |

मिशनरी: “परमेश्वर के पुत्र ने आपनी इच्छा से क्रूस पर तुम्हारे पापों के लिये अपने प्राण दिये | आप तुम से प्रेम करते हैं | आप पर विश्वास करो और आप तुम्हारे पाप क्षमा करेंगे और एक दिन तुम स्वर्ग में जाओगे |”

मुखिया का चहरा चमकने लगा |

मुखिया: “ओह, अब मैं जनता हूँ कि मैं परमेश्वर को और क्या दे सकता हूँ | मैं अपना दिल उसे देता हूँ और विश्वास करता हूँ कि यीशु ने मेरे पापों के लिये अपने प्राण दे दिये |”

और बहुत से लोगों ने भी ऐसा ही किया और प्रसन्न हो कर अपने अपने तंबुओं में चले गये |

क्या तुम भी इसी तरह प्रसन्न होना चाहते हो ? तब जैसा मुखिया ने किया वैसे ही तुम भी करो और प्रभु यीशु पर विश्वास करो |


लोग: वर्णन कर्ता, मिशनरी, मुखिया

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:27 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)