STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 035 (Meeting place Jerusalem)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

35. यरोशलेम में जमाव


लोग हर जगह से आ गये | कई लोग परदेश से आये | वे यरूशलेम में पिन्तेकुस्त का दिन मनाने के लिये आये थे | हज़ारों लोग सड़कों पर चल रहे थे | उस दिन, प्रभु यीशु के चेले एक घर में एक साथ प्रार्थना करने के लिये इकठ्ठे हो गये | अचानक उन्हों ने ज़ोर की आँधी की आवाज सुनी | बाहर जो लोग थे उन्हों ने भी इस आवाज को महसूस किया | यह क्या हो सकता है ?

कुछ और ही हुआ | चेलों के सरों पर आग की जीभें दिखाई दीं जो हर एक पर आ ठहरीं | इस आश्चर्यकर्म का क्या अर्थ हुआ ?

यह आश्चर्यजनक अनुभव यीशु की ओर से उपहार था | आप ने अपने चेलों को पवित्र आत्मा अर्पण किया | आप अपने मित्रों को भूले न थे | पवित्र आत्मा के द्वारा यीशु हमेशा अपने बच्चों के साथ रहते हैं | पवित्र आत्मा सांत्वना दाता, परामर्श देने वाला और साथी है | उस क्वे द्वारा परमेश्वर की सन्तान हमेशा स्वर्ग में स्थित यीशु से जुडी हुई रहती है |

घर के सामने लोग चकित खड़े थे |

लोग: “इस का क्या अर्थ हुआ ?”

अत्यन्त आनंदित हो कर चेलों ने भीड़ को यीशु के विषय में बताया | कल्पना करो, परदेश से आये हुए लोग भी चेलों की बातें समझ सके | हर एक ने यीशु के मित्रों को स्वय : उन की आपनी भाषा में बोलते हुए सुना | वे उन भाषाओं में बोले जिन्हें उन्हों ने कभी सीखा न था | यीशु ही वह व्यक्ति हैं जिन्हों ने यह होने दिया |

कुछ लोगों ने मजाक उड़ाया :

उपहास कर्ता: “हा, तुम सब मदिरा के नशे में चूर हो - वह भी सुबह के समय !”

तब पतरस ने कहा :

पतरस: “जी नहीं, हम नशे में नहीं हैं | परमेश्वर ने अपना वचन पूरा किया और अपना पवित्र आत्मा हमारे लिये भेज दिया |”

साहस से उन्हों ने यीशु के विषय में और भी बातें बतायीं कि आप कैसे मरे और फिर जी उठे और अब स्वर्ग में रहते हैं |

पुरुष: “क्या यह पतरस है, जिस ने कुछ दिन पहले कहा था कि वह यीशु को जानता भी नहीं ?”

स्त्री: “हाँ वही है, अब उस में थोडा भी भय न रहा | वह पूर्णत: बदल गया है |”

पवित्र आत्मा के द्वारा परमेश्वर ने पतरस को साहसी गवाह बना दिया है | और पतरस ने जो कुछ कहा उस से भीड़ के दिल प्रभावित हुए |

पुरुष: “हम क्या करें ?”

स्त्री: “हम ने कई गलत काम किए हैं |”

पतरस: “प्रभु यीशु पर विश्वास कीजिये और परमेश्वर तुन्हें क्षमा करेगा और तुम पवित्र आत्मा पाओगे |”

३००० लोगों ने ऐसा ही किया | उन्हों ने यीशु से प्रार्थना की और उद्धार पाया | यह पिन्तेकुस्त का दिन मनाने के बाद चेलों को नया आनंद प्राप्त हुआ |


लोग: वर्णन कर्ता, उपहास कर्ता, पतरस, पुरुष, स्त्री

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:21 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)