STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 087 (I don’t want to live anymore)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

87. मैं अब और जीना नहीं चाहता


स्कूल में कक्षा के परिणाम घोषित किये गये | सांद्रा खुश थी | वह अपने माता पिता को अपना अच्छा परिणाम दिखाने के लिये रुक न सकती थी | परन्तु कायल के साथ मामला कुछ और था | उस ने स्कूल का कार्यक्रम समाप्त होने के समय पर अपना बसता बाँध लिया |

बेन: “हे कायल, क्या हम आज दोपहर को घाटी तक सायकल पर जायेंगे ?”

कायल: “नहीं, आज नहीं |”

बेन: “समय बर्बाद न करो | क्या तुम रात स्कूल में बिताना चाहते हो ?”

कायल: “तुम अकेले जाओ | मैं घर जाना नहीं चाहता | गणित में ‘ड’ ग्रेड, जरमन भाषा में ‘फ’ ग्रेड | यदि मेरे पिता यह देखेंगे तो मुझे निश्च्य ही मार डालेंगे | मैं अपने आप को मार डालना पसंद करूँगा | मैं अब और जीना नहीं चाहता | मैं मुर्ख हूँ और मूर्खों को कोई पसंद नहीं करता |”

बेन: “ऐसी बकवास बंद करो | तुम्हारे पिता तुम से बहुत प्रेम करते हैं | वह तुम्हारे लिये कई अच्छे उपहार खरीदते हैं |”

कायल: “मेरे पिता ? वे स्वय : अपने आप और अपने व्यवसाय से प्रेम करते हैं | दूसरी सब बातें उन के लिये कोई महत्व नहीं रखतीं |”

बेन: “मेरे पिता हमेशा ऐसे महान व्यक्ति नहीं होते | वह उसी समय मुझ पर ध्यान देते हैं जब मैं कुछ गलत काम करता हूँ | तब वे मुझे एक पागल व्यक्ति के समान डाँटते हैं | इस से मुझे दुख: होता है | ऐसे भी समय आये हैं जब मैं और जीना नहीं चाहता था |”

कायल: “आज तुम इस के बारे में क्या महसूस करते हो ?”

बेन: “आज मैं जानता हूँ कि यीशु उपस्थित हैं | यदि मैं असफल रहा तो भी आप मुझ से प्रेम करते हैं | मैं परिपूर्ण रेकोर्ड के बिना भी हमेशा आप के पास जा सकता हूँ | आप मेरे मित्र हैं | और यदि मैं आप को देख नहीं सकता फिर भी मैं जानता हूँ कि आप मेरे साथ रहते हैं | मुझे शक्तिशाली होने की आव्यशकता नहीं है; मैं आप की उपस्थिति में रो भी सकता हूँ | मैं तुम्हें बताता हूँ कि यह मेरे लिये अच्छा होता है |”

कायल: “तुम्हारे लिये तो यह ठीक है ! काश मैं भी इस पर विश्वास कर सकूँ |”

बेन: “चलो हम घाटी तक सायकल पर सवार हो कर बातचीत करते हुए चलते हैं | क्या मैं तुम्हारे साथ तुम्हारे घर आ सकता हूँ ? संभव है कि कोई व्यक्ति आस पास होने के कारण तुम्हारे पिता ऐसा पागलपन न करें |”

कायल: “यह अच्छा विचार है | तुम अच्छे मित्र हो |”

बेन: “और छुट्टियाँ समाप्त होने पर हम कभी कभी इकठ्ठे हो कर घर का काम भी कर सकेंगे |”

बेन का अपने मित्र के साथ जाना अच्छा रहा | परन्तु फिर भी कायल चिंतित था | तब एक आश्चर्यकर्म हुआ : जब कायल के पिता ने उस का परिणाम देखा तो वे परेशान न हुए | बल्कि उन्हों ने स्विकार किया कि जब वे स्कूल में पढ़ते थे तब उन की श्रेणी भी बहुत अच्छी न हुआ करती
थी |

जब माता पिता परिपूर्ण कार्य की अपेक्षा करते हैं तब मुश्किल हो सकती है |

परन्तु यीशु बिल्कुल अलग व्यक्ति हैं | तुम जिस परिसतिथी में भी हों आप तुम्हें स्विकार करते हैं | आप तुम्हारी सशक्त और असश्क्त स्थिति में तुम से प्रेम करते हैं | आप जानते हैं कि तुम कई काम अच्छी तरह से कर सकते हो और आप वह काम भी जानते हैं जो तुम्हारे लिये मुश्किल होते हैं | आप तुम्हारी सहायता करना चाहते हैं | इस लिये निडर हो जाओ और आप पर विश्वास करो | जब तुम यीशु को जान लोगे तब अपनी कक्षा में खुद ब खुद बेहतर न बनोगे परन्तु यीशु तुम्हारी सहायता करेंगे ताकि तुम बेहतर बन सको |

निडर हो जाओ और आप पर विश्वास करो | यीशु की सहायता से तुम कोई भी काम अपने विचार से अधिक बेहतर तौर से कर सकोगे !


लोग: वर्णनकर्ता, बेन, कायल

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:06 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)