STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 013 (Gifts for Jesus)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

13. यीशु के लिये उपहार


सुशील अपने दादा को शिशु के पालने की कठपुतली बनाते हुए देख रहा था | वह बिलकुल असली दिखाई दे रहे थे - चरवाहे, यूसुफ और मरियम और शिशु यीशु | जैसे जैसे समय बीतता गया वह थक गया और सो गया |

उस ने स्वप्न में बैतलहम का अस्तबल देखा | सुशील ने सोचा, मैं सच मुच चरनी के निकट पहुँच सकता हूँ |

वह निकट आया और अचानक उदास हो गया | तब यीशु ने उस से बात की |

यीशु: “तू इतना दु:खी क्यों है ?”

सुशील: “क्योंकि मैं ने आप के लिये कोई उपहार नहीं लाये |”

यीशु: “दु:खी मत हो | मुझे तुझ से केवल तीन वस्तु चाहिये |”

सुशील: “मेरे पास जोकुछ भी है वह सब मैं आप को दे दुँगा | मेरी इलेक्ट्रिक ट्रेन, मेरे कम्पुटर के खेल और …”

यीशु: “नहीं, मुझे तुझ से यह सब नहीं चाहिये; मैं इस के लिये आस्मान से धर्ती पर नहीं आया |”

सुशील: “फिर आप क्या चाहते हैं ?”

यीशु: “मुझे अपनी गणित की अंतिम परिक्षा का पर्तिनाम दे दे |”

सुशील: “परन्तु मुझे उस में “डी” पद मिला |”

यीशु: “इसी कारण वह मुझे चाहिये | मेरे लिये हमेशा तुम्हारे जीवन की हर वह वस्तु लाओ जो तुम्हारे लिये अपर्याप्त है | क्या तुम ऐसा करोगे ?”

सुशील: “जी हाँ, मैं ऐसा ही करूँगा |”

यीशु: “दूसरा उपहार जो मुझे चाहिये वह तुम्हारा अनाज का कटोरा है |”

सुशील: “वह मैं आप को नहीं दे सकता क्योंकि मैं ने उसे तोड़ डाला है |”

यीशु: “इसी कारण वह मुझे चाहिये | मेरे लिये तुम्हारे जीवन की हर वह वस्तु लाओ जो टूटी हुई है | क्या तुम ऐसेकरोगे ?”

सुशील: “जी हाँ, मैं ऐसा ही करूँगा |”

यीशु: “अब मेरी तीसरी इच्छा यह है | सुशील, मैं तुम्हारा वह उत्तर चाहता हूँ जो तुम ने अपनी माँ को दिया जब उन्हों ने तुम से पूछा कि तुम्हारा अनाज का कटोरा कैसे टूटा |”

तब सुशील रोने लगा और उस का दिल टूट गया |

सुशील: “मैं ... मैं ने उन से झूट बोला |”

यीशु: “सुशील, तुम्हारे झूट, अवज्ञा, तुम्हारे जीवन की प्रत्येक दुष्ट वस्तु, तुम मेरे पास ला सकते हो - अपने पूरे जीवन भर | मैं तुम्हें क्षमा करूँगा और सीधे तरीके से जीने में सहायता करूँगा | मैं हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा और तुम्हें जीवन का मार्ग बताऊंगा | क्या तुम्हें यह चाहिये ?”

और सुशील को इस की कितनी आवयश्कता थी ! तब से उस ने यीशु पर विश्वास किया और आप की बातें सुनीं |


लोग: वर्णन कर्ता, सुशील, यीशु की आवाज

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 01:50 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)