STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 066 (He is finally here)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

66. अन्त में वह यहाँ है


प्रकाश: “आप आखिर कब आ रहे हैं ?”

प्रकाश मुश्किल से प्रतिक्षा कर सकता है | वह खिडकी की ओर भागता है |

प्रकाश: “माँ, पापा घर कब आयेंगे ?”

माँ: “अब और ज़्यादा देर न होगी | वह अपने काम के विषय में सफर करके आज लौटने का इरादा रखते हैं | आशा करती हूँ कि वे यातायात में फंस न गये हों |”

प्रकाश: “वे मेरे लिये कम्पुटर का नया खेल लाने वाले हैं | यदि वे अभी आ जायें |”

यदि वे आ जायें ! ईस्राएल के लोगों ने कई साल पहले ऐसा ही सोचा था | वे प्रतिक्षा करते रहे और आशा करते थे कि आप जल्द आ जायेंगे | यानी वह उद्धारकर्ता जिस का वचन परमेश्वर ने दिया था | अन्द्रियास मुश्किल से प्रतिक्षा कर सकता था | वह उस व्यक्ति की प्रतिक्षा कर रहा था जो उद्धार और शांति लाने वाला था | वह यूहन्ना की संगती में रहना पसंद करता था | यूहन्ना हमेशा यीशु के विषय में बोला करता था और उस ने आप को देखा भी था !

तब अन्द्रियास के जीवन का सब से अच्छा दिन आ गया |

वह यूहन्ना के साथ यर्दन नदी के किनारे पर खड़ा था कि यूहन्ना अचानक चिल्लाया :

यूहन्ना: “देखो, आप वहाँ हैं : यीशु! उद्धारकर्ता जिन के आने का वादा किया गया था |”

अन्द्रियास ने उस ओर देखा जहाँ यीशु खड़े थे |

अन्द्रियास: “आप वहाँ हैं | आखिर आप यहाँ आ गये |”

अन्द्रियास यीशु को जानना चाहता था | वह अपने मित्र के साथ यीशु के पीछे चलने लगा | यीशु जानते हैं कि आप को कौन ढ़ूँड रहा है और आप को जानना चाहता है | आप ने पीछे मुड कर देखा और पूछा :

यीशु: “तुम किसे ढ़ूँड रहे हो ? तुम क्या चाहते हो ?”

अन्द्रियास: “आप कहाँ रहते हैं ?”

यीशु: “मेरे साथ आओ और मैं तुम्हें बता दुंगा |”

अत्यन्त खुशी और उत्साह के साथ वे यीशु के साथ गये | उन्हों ने वह स्थान देखा जहाँ आप रहते थे और सारा दिन आप के साथ रहे |

यीशु की संगती में रहने से बहुत खुशी होती है | क्या तुम्हें यह खुशी प्राप्त हुई है ? अन्द्रियास खुशी से फूला न समाया होगा | उसे यह आश्चर्यजनक अनुभव किसी को बताना था |

दूसरों तक पहुँचा दो - यही ठीक है ! आज तुम यीशु के विषय में किसे बताओगे ?

अन्द्रियास ने सब से पहले अपने भाई को बताया |

अन्द्रियास: “शमौन, हमें यीशु मिल गये हैं ! आप यहीं हैं | मेरे साथ आओ, तुम्हारे लिये यह अत्यन्त जरुरी है कि तुम आप को जानो !”

अन्द्रियास का उत्साह प्रभावी था | शमौन ने अपने भाई पर विश्वास किया और उस के साथ चला गया | और ऐसे लगा कि यीशु उस की प्रतिक्षा कर रहे थे | यीशु को शमौन के नाम की जानकारी थी |

यीशु: “तुम शमौन हो परन्तु आज से तुम पतरस कहलाओगे |”

एक नया नाम | इस का अर्थ यह हुआ कि यीशु उसे एक नया व्यक्ति बनायेंगे | यीशु को पाना और आप का अनुयायी बनना हम में परिवर्तन लाता है |

यह मुझे शक्ती देता है क्योंकि आप मुझे भी बदल देते हैं |


लोग: वर्णनकर्ता, प्रकाश, माँ, यूहन्ना, अन्द्रियास, यीशु

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:48 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)