STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 021 (Sin begins small 6)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

21. पाप की शुरुआत थोड़े थोड़े से होती है ६


अहाब राजा अपने महल में टहल रहा था | एक बार फिर उस ने खिडकी की चौखट पर से झाँक कर देखा और दाख की बारी को सराहा |

अहाब: “मुझे यह दाख की बारी प्राप्त करनी चाहिये ! वह मेरे महल के पास है | मैं उसे आश्चर्यजनक बगीचा बना सकता हूँ और उस में पत्ता गोभी भी उगा सकुं गा |”

वह मालिक के पास गया |

अहाब: “नाबोत, मुझे आपनी दाख की बारी बेच दे |”

नाबोत: “यह असंभव है ! ज़मीन का यह टुकड़ा मेरे पुरखों की विरासत है | तुम्हें विरासत में मिली हुई वस्तु बेचने का अधिकार नहीं है यह परमेश्वर का कानून है |”

अलविदा कहे बिना अहाब अपमानित हो कर वहाँ से अपने घर चला गया | उदास होकर वह अपने बिस्तर पर गिर गया |

तुम जो चाहते हो वह वस्तु न मिलने पर क्या तुम उदास होते हो ?

अहाब राजा ने क्रोध में अपना चेहरा दीवार की ओर घुमा लिया |

इज़ेबेल: “तुम्हें क्या हो गया है ?”

जब इज़ेबेल ने वह सब सुना जिस के कारण वह परेशान था तब वह बोली :

इज़ेबेल: “खड़े हो जाओ और मुस्कुराओ | मैं देखुंगी कि तुम जो चाहते हो वह प्राप्त करो |”

रानी ने एक पत्र नगर की समिति को लिखा, उस पर जालसाज़ी से राजा के हस्ताक्षर किए और राजा की अँगूठी से उसे मोहर बंद किया |

नगर की परिषद के सभासद ने यह शब्द पढ़े : एक समारोह आयोजित करो और उस में नाबोत को नेवता दो | तब उस पर मुकदमा दायर करो और कहो : तू ने परमेश्वर और राजा की निंदा की जिस के लिये तुझे मरना चाहिये |

और ऐसे ही हुआ | निसंदेह नाबोत ने नेवता स्विकार किया और शाम के अंत तक वह मारा गया |

यह कितना भयानक है कि एक छोटा सा पाप कितना भयानक बन सकता है ?

देखना चाहना ईर्ष्या घमंड अपमानित होना झूट और फिर हत्या !

नाबोत की मृत्यु का समाचार बहुत जल्द फैल गया | तब अहाब राजा दाख की बारी को अपनाने के लिये गया | परन्तु यह विचार किए बिना कि परमेश्वर क्या सोचेगा, वह यह काम करने गया | अचानक एलिय्याह उस के सामने खड़ा हो गया | अहाब भूत के समान सफ़ेद पड़ गया |

अहाब: “ऐ मेरे शत्रु, अब तू ने मुझे ढूँड निकाला ?”

एलिय्याह: “हाँ; मैं ने तुझे ढूँड लिया | तू ने स्वय : अपने आप को पाप को बेच दिया और उसे अपने दिल में बढ़ने दिया | परमेश्वर पाप से घ्रणा करता है और वह तेरा और तेरे परिवार का नाश करने वाला है |”

राजा ने इन शब्दों पर बारंबार विचार किया | उस ने जो कुछ किया उस के लिये पश्चताप कर रहा था | और परमेश्वर ने उस के दिल में झाँका और उस पर दया की |

जब हम अपने पापों को प्रभु यीशु के सामने स्वीकार करते हैं, तब आप वफादार होने के कारण हमारे पाप भी क्षमा करते हैं |


लोग: वर्णन कर्ता, अहाब, इज़ेबेल, नाबोत, एलिय्याह

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:01 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)