STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 054 (One man yells the others laugh 2)

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

54. कोई रोता है, दूसरे बनावटी हंसी हँसते हैं २


घर से बहुत दूर उत्तर ईस्राएल में दस भाई अपने पिता की भेड़ों पर पहरा दे रहे थे जो चरागाह में चर रही थीं | (भेड़ों की मिनियाहत की आवाज)

उन के छोटे भाई की ईर्ष्या उन्हें परेशान कर रही थी |

पहला भाई: “आज कल स्वप्न देखने वाला यूसुफ क्या कर रहा है ?”

दूसरा भाई: “परमेश्वर ने शायद यह बताया कि वह एक प्रसिद्ध व्यक्ति बनेगा | और हमें उस के सामने झुकना पड़ेगा | हाहा, यह अत्यन्त हास्यप्रद बात है जो मैं ने कभी सुनी थी |”

पहला भाई: “मुझे अभी भी उस सुन्दर कोट के विषय में जलन हो रही है जो पिताजी ने उसे दिया |”

दूसरा भाई: “हम उस विषय की बात ही न करें | वह हमें केवल परेशान करती है | भेड़ों के लिये हरी भरी चरागाहें ज्यादा महत्वपूर्ण हैं |”

घर पर उनका पिता अपने पुत्रों के विषय में सोच रहा था |

पिता: “यूसुफ मुझे तुम्हारे भाईयों की चिंता हो रही है | हम नहीं जानते कि वे सुरक्षित और सही सलामत हैं भी या नहीं ? संभव है जंगली प्राणियों ने भेड़ों पर आक्रमण किया हो | तुम उन के पास जाओ और देखो कि वे सलामत हैं या नहीं |”

यूसुफ को पाँच बार यह कहने की आव्यशक्ता नहीं होती कि वह क्या करे | कोई शिकायत किए बिना उस ने तुरन्त आज्ञा का पालन किया | यूसुफ को कई मील पैदल चलना पड़ा | उस के भाईयों ने उसे दूर से देखा |

पहला भाई: “देखो वह स्वप्न देखने वाला आ रहा है | अरे भाईयो, आओ हम उसे मार डालें |”

दूसरा भाई: “ऐसा न करो | इस के बदले उसे कुंए में फेक दो |”

सब से बडे भाई, रुबन का अन्तकरण उसे कोसने लगा | वह अपने भाई को बचाना चाहता था | यूसुफ निकट आ गया | उसे उन की भयानक योजनाओं की कोई जानकारी न थी |

यूसुफ: “भाईयो, तुम्हें शांति मिले | तुम कैसे हो ?”

पहला भाई: “उस से तेरा कोई संबन्ध नहीं | इसी समय तेरा कोट मुझे दे दे | और तब हम तुझे बताएँगे कि कुआँ नीचे से ऊपर कैसा दिखाई देता
है |”

यूसुफ: “नहीं ! मुझे जाने दो ! मैं ने कब कोई गलत काम किया ?” (उस के गिरने की आवाज)

भाग्य से कूएँ में कुछ भी पानी न था परन्तु वह इतना गहरा था कि यूसुफ स्वय : उस में से निकल नहीं सकता था |

यूसुफ: “सहायता करो ! सहायता करो ! मुझे यहाँ से निकाल लो ! सहायता करो | मैं निकलना चाहता हूँ | क्या तुम मुझे सुन रहे हो ? सहायता
करो !”

उस के भाई छाओं में बैठे, हँसते हुए कुछ खा रहे थे | अचानक ऊंटों का एक काफिला वहाँ आ पहुँचा | व्यापारी अपना सामान मिस्र ले जा रहे थे |

पहला भाई: “मुझे एक कल्पना सूझी है | आओ हम यूसुफ को बेच दें |”

दूसरा भाई: “यहूदा, तुम्हारी कल्पना कितनी महान है | तब हम उस से छुटकारा पायेंगे और पैसे आपस में बाँट लेंगे |”

उन्हों ने ऐसा ही किया | भाईयों ने युसुफ को चांदी के बीस सिक्कों में परदेश में दास बन कर जाने के लिये बेच दिया | उन्हों ने उस का सुन्दर कोट संभाल कर रखा और उसे अपने पिता के पास वापस ले कर आ गये | उस पर खून लगा हुआ था |

पहला भाई: “पिताजी, हमें यह मिला | क्या यह यूसुफ का कोट नहीं था ?”

पिता: “हाँ | किसी जंगली जानवर ने उसे फाड दिया होगा | वह मर गया है ! मेरा पुत्र, यूसुफ, मर गया है |”

उन्हों ने अपने पाप पर झूट बोल कर परदा डाल दिया और उन के पिता ने उन पर विश्वास किया |

उन के दिलों से केवल बुराई ही निकल आई | परन्तु यूसुफ के लिए परमेश्वर ने उसे भलाई में बदल दिया |

मुझे आश्चर्य हो रहा है कि अगले ड्रामे में यह कहानी कैसे जारी रहेगी | क्या तुम्हें भी ऐसा ही लग रहा है ?


लोग: वर्णनकर्ता, दो भाई, यूसुफ, पिता

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 03:24 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)