STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 062 (At the end of the quest 2)

This page in: -- Arabic? -- Aymara -- Azeri -- Bengali? -- Bulgarian -- Cebuano -- Chinese -- English -- Farsi? -- French -- German -- Guarani -- Hebrew? -- HINDI -- Indonesian -- Italian -- Korean? -- Kyrgyz -- Malayalam? -- Portuguese -- Quechua? -- Romanian? -- Russian -- Serbian? -- Spanish -- Tamil -- Turkish -- Urdu? -- Uzbek

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

62. अन्त में निशाने पर २


निराश हो कर पूर्व से आये हुए ज्योतिषी येरूशलेम में राजा का महल छोड़ कर चले गये | और जहाँ उन्हों ने नये जन्मे हुए राजा, यीशु को ढूंडा वह जगह यह थी | वे उस राजा की आराधना करने और सब लोगों को बताने आये थे कि आप उन के जीवन के प्रभु होंगे | परन्तु आप उन्हें येरूशलेम में नहीं मिले | जब वे शहर छोड़ कर चले थे तब अंधेरा हो चुका था |

पहला ज्योतिष: “हेरोदेस राजा इतना परेशान क्यों था ?”

दूसरा ज्योतिष: “और वह तारा दिखाई देने का निश्चित समय क्यों जानना चाहता था ?”

पहला ज्योतिष: “देखो वह तारा फिर से दिखाई दे रहा है ! वही तारा जिस ने हमें बताया कि यहूदियों के राजा ने जन्म लिया है |”

जब बाबुल के लोगों ने वह तारा देखा तो बहुत प्रसन्न हुए |

कल्पना करो ! वह तारा आस्मान में उन के आगे आगे चलता रहा और उन्हें बैतलहम का मार्ग बताता रहा |

वह तारा, एक विशेष घर के ऊपर रुक गया | क्योंकि उस घर में मरियम और यूसुफ, नन्हे यीशु के साथ रहते थे |

वे वहाँ रहे और जन गणना के बाद जब सब लोग अपने अपने घरों को लौट गये तब उन्हें मकान मिला |

और अब वे ज्योतिषी अपनी खोज के अंतिम चरन में पहुँच गये थे |

वे उस घर के अन्दर गये और मरियम और यूसुफ को देखा | और स्वय : अपनी आँखों से बालक यीशु को देखा जो परमेश्वर के भेजे हुए राजा थे |

आश्चर्य करते हुए, वे यीशु के सामने झुके और आप की आराधना की |

वे आप के होना चाहते थे; उन की इच्छा थी कि आप उन के राजा बन कर उन के जीवन पर राज करें |

क्या यीशु तुम्हारे भी राजा हैं ? क्या आप को तुम्हारे जीवन भर तुम्हारा मार्ग दर्शन करने की अनुमति दी गई है ?

तुम्हारे और मेरे लिये सारी दुनिया में इस से अच्छी और कोई बात नहीं हो सकती कि यीशु हमारे जीवन के राजा हों |

ज्योतिषी आप के थे | उन्हों ने अपने उपहार खोल दिये - वे बहुत आभारी थे ! सोना, बहु मूल्य इत्र और लोबान अनन्त राजा के लिये उन के उपहार थे |

अत्यन्त बहुमूल्य उपहार जो हम आप को अर्पण कर सकते हैं वह हमारा अपना जीवन है | जो व्यक्ति अपना जीवन यीशु को दे देता है वह बड़ा पुरस्कार पायेगा |


लोग: वर्णनकर्ता, दो ज्योतिषी

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 23, 2018, at 02:44 PM | powered by PmWiki (pmwiki-2.2.109)