STORIES for CHILDREN by Sister Farida

(www.wol-children.net)

Search in "Hindi":

Home -- Hindi -- Perform a PLAY -- 136 (First aid 4)

Previous Piece -- Next Piece

नाटक -- अन्य बच्चों के लिए अभिनीत करो !
च्चों द्वारा अभिनय करने के लिए नाटक

136. प्रथम उपचार ४


(यातायात संबन्धी आवाजें)

लड़की: “जीवन का विद्यालय, भाग ३, प्रथम उपचार |”

क्या तुम ने ऐसा कोई अस्पताल देखा है जहाँ न कोई डॉक्टर थे और न नर्सें थीं ?

ऐसा स्थल अस्तित्व में था | वह अस्पताल जैसा दिखाई नहीं देता था परन्तु तैरने के तालाब जैसा था जिस में दो अलग तालाब
थे | यह सब सुविधा, चार मेहराब वाले छतों से घिरी हुई थी और एक गलियारा इन दो तालाबों के बीच में था |

कई बीमार वहाँ पड़े हुए थे परन्तु कोई डॉक्टर उन का ईलाज नहीं कर रहा था | वहाँ प्रथम उपचार का प्रबंध भी नहीं था और न ही आपात्कालीन स्थिति से निपटने के लिये एम्बुलन्स का प्रबंध किया गया था |

बीमार लोग हमेशा पानी की ओर देखते रहते थे | कहा जाता है कि एक स्वर्गदूत नियुक्त समय पर कुण्ड में उतर कर पानी को हिलाया करता था | पानी के हिलते ही जो कोई पहले उस में उतरता वह चंगा हो जाता था | और वे सब चंगा होना चाहते थे ! विशेष कर एक अपाहिज | वह पानी से तत्काल चिकत्सा पाने की आशा रखता था |

आदमी: “मैं अपनी आँखें पानी पर से हटा नहीं सकता | वह देखो,वह हिल रहा है ! मुझे सब से पहले पानी में उतर जाना चाहिये (गहरा स्वास लेने की आवाज) | मुझे फिर बहुत देर हो गई | मैं कभी पहले उतर नहीं सकूंगा |”

निराश हो कर वह अपनी चटाई पर एक बार फिर बैठ गया | वह “तत्काल चिकित्सा” के लिये ३८ साल से प्रतिक्षा कर रहा था |

एक दिन कोई व्यक्ति उस से मिला |

यीशु: “क्या तू चंगा होना चाहता है ?”

आदमी: “हौं, परन्तु मेरे पास कोई नहीं जो पानी के हिलाये जाने के बाद तुरन्त मुझे कुण्ड में उतारे | मेरे पहुँचते पहुँचते दूसरा बीमार मुझ से पहले उतर जाता है |”

यीशु: “उठ, अपनी चटाई उठा और चल फिर |”

वह आदमी उठा और चंगा हो गया | तत्काल चिकित्सा जो किसी सुई या बौंड एड के बिना हुई | ३८ साल के बाद पूर्णत : चंगा ! मुझे आश्चर्य हो रहा है कि दूसरे उसे चंगा देख कर प्रसन्न हुए या नहीं ?

फरीसी: “क्या तुम सोच सकते हो कि क्या कर रहे हो ? आज सब्त है | इस आराम के दिन अपनी चटाई उठाना मना है |”

आदमी: “जिस व्यक्ति ने मुझे चंगा किया उस ने मुझ से कहा कि अपनी चटाई उठा और चल फिर |”

फरीसी: “वह कौन है ?”

आदमी: “मैं नहीं जानता | मैं ने उसे फिर नहीं देखा |”

क्या तुम जानते हो कि वह कौन था ? ठीक है | वह प्रभु यीशु थे | आप सब से अच्छी तत्काल चिकित्सा प्रदान करते हैं | केवल हमारे शरीर के लिये ही नहीं परन्तु हमारी जानों के लिये भी आप खुशी से सहायता करते और उस का उद्धार करते हैं |

बाद में जब आप ने चंगे व्यक्ति से बात की तब उसे कुछ अच्छा परामर्ष दिया |

यीशु: “अब तू चंगा हो गया है | न्यायहीन न बन और अब पाप न कर ताकि तेरे साथ कुछ बुरा न हो |”

मैं कल्पना कर सकता हूँ कि यीशु का यह कहने में क्या उद्देश था | क्या तुम भी कल्पना कर सकते हो ?


लोग: वर्णनकर्ता, आदमी, यीशु, फरीसी, लड़का, लड़की

© कॉपीराईट: सी इ एफ जरमनी

www.WoL-Children.net

Page last modified on July 31, 2018, at 09:03 AM | powered by PmWiki (pmwiki-2.3.3)